चक्रवर्ती तूफान, को लेकर राज्य भर में सतर्कता, सेना उत्तरी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) का कहना है कि यह यास गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल चुका है। इसके आज दोपहर ओडिशा के बालासोर तट से टकराने की आशंका है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल में यास तूफान की वजह से कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है।

| 0

गंभीर समाचार 26 May 2021

  चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yaas) ने असर दिखाना शुरू कर दिया है। भारत मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि यह यास गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल चुका है। इसके आज दोपहर ओडिशा के बालासोर तट से टकराने की आशंका है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल में यास तूफान की वजह से कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है। पूर्वी तटीय राज्‍यों पर यास तूफान का खतरा मंडरा रहा है।  बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान यास (Cyclone Yaas) ने तबाही मचानी शुरू कर दी है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) का कहना है कि यह यास गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल चुका है। इसके आज दोपहर ओडिशा के बालासोर तट से टकराने की आशंका है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल में यास तूफान की वजह से कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है। पूर्वी तटीय राज्‍यों पर यास तूफान का खतरा मंडरा रहा है। पश्चिम बंगाल और ओडिशा सरकार ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जोखिम वाले क्षेत्रों से 12 लाख से अधिक लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। मौसम विभाग ने अगले कुछ घंटों में तूफान यास के तीव्र चक्रवाती तूफान में बदलने की आशंका जताई है।  तूफान को देखते हुए प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है हावड़ा के प्रशासनिक अधिकारी व तृणमूल के वरिष्ठ मंत्री व नेता अरूप राय ने इलाके का जायजा लिया गंगा किनारे और कमजोर मकान वाले लोगों के रखरखाव की पूरी व्यवस्था की गई    वहीं दूसरी तरफ उत्तर हावड़ा के विभिन्न वार्डों में सामाजिक संस्था से लेकर राजनीतिक दल तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता लोगों की मदद करते नजर आए एक नंबर वार्ड में ही रखरखाव के लिए कई भगत था की गई जिनका मकान कमजोर है उनके लिए रहने और खाने का व्यवस्था कि गई तृणमूल नेता व समाजसेवी राजेंद्र गुप्ता ने बताया कि हर तरह के विदा से निपटने के लिए हम तैयार हैं जय माता दी मंदिर गोसाईं घाट और इंडियन मुस्लिम लाइब्रीय  दोनो संस्था  निसुलक भोजन  कराया जा रहा है

सेना ने बंगाल में 17 कॉलम की तैनाती की है. हर कॉलम में करीब 100 जवान हैं. इनमें से 9 को कोलकाता में रखा गया है. अन्य को पुरुलिया, बीरभूम, बर्धमान, हावड़ा हुगली, नाडिया और नॉर्थ 24 परगना जिलों में तैनात किया गया है. इसके अलावा एनडीआरएफ टीमें, 54 हजार अधिकारी और राहत कार्यकर्ता, 2 लाख पुलिस और होमगार्ड जवान भी तैनात किए जाएंगे.कोलकाता एयरपोर्ट पर आज सुबह 8:30 से लेकर शाम 7:45 बजे तक फ्लाइट संचालन बंद रहेगाएनडीआरएफ प्रमुख एसएन प्रधान ने कहा है कि पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 115 टीमों की तैनाती की गई है.   ओडिशा, बंगाल के अलावा चक्रवात यास का असर झारखंड, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, अंडमान-निकोबार समेत अन्य कुछ हिस्सों में देखने को मिल सकता है.ममता के मुताबिक, 11.5 लाख लोगों को निकाला जा चुका है, अभी तक हालिशहर में 40 मकानों को नुकसान पहुंचा है.  

.

ट्रेंडिंग