प्रवासी मजदूरों पर बिहार में घमासान

लॉकडाउन में रोजगार छिनने के बाद दूसरे राज्यों से अपने प्रदेश बिहार लौट रहे मजदूरों पर सियासी जंग छिड़ गई है. बिहार में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं, इसको ध्यान में रख कर हर राजनीतिक दल हर मौके पर चौका लगाने की फिराक में है. इसी क्रम में राष्ट्रीय जनता दल ने बाहर से राज्य में आए प्रवासी मजदूरों को पार्टी का सदस्य बनाने के अभियान में लगे हैं.

| डेस्क

गंभीर समचार 04 Jun 2020

लॉकडाउन में रोजगार छिनने के बाद दूसरे राज्यों से अपने प्रदेश बिहार लौट रहे मजदूरों पर सियासी जंग छिड़ गई है. बिहार में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं, इसको ध्यान में रख कर हर राजनीतिक दल हर मौके पर चौका लगाने की फिराक में है. इसी क्रम में राष्ट्रीय जनता दल ने बाहर से राज्य में आए प्रवासी मजदूरों को पार्टी का सदस्य बनाने के अभियान में लगे हैं. आरजेडी के इस अभियान को लेकर सूबे में सियासत जोरो पर है. बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने आरजेडी पर निशाना साधते हुए कहा कि आरजेडी प्रवासी मजदूरों के आंसुओं से वोट की फसल सींचना चाहती है.  मोदी का कहना है कि केंद्र और राज्य की सरकारें ट्रेनों और बसों से प्रवासी मजदूरों को उनके गृह प्रखंडों तक पहुंचाने में जुटी हैं, वहीं आरजेडी मजदूरों के तकलीफों का राजनीतिक लाभ लेना चाहता है. अब तक 231 स्पेशल ट्रेनों के जरिये 3 लाख से ज्यादा मजदूरों को सुरक्षित बिहार लाया जा चुका है. घर वापसी करने वाले सभी प्रवासी मजदूर राज्य सरकार के बनाये क्वारंटीन सेंटर में रह रहे है. 21 दिन के क्वारेंटाइन के बाद राज्य सरकार उन्हें घर तक पहुंचाने का काम भी करेगी, लेकिन आरजेडी के लोग मजदूरों के आंसुओं से वोट की फसल सींचने की जुगाड़ में भिड़े हैं.'

दरअसल, आरजेडी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह की ओर से पार्टी कार्यकर्ताओं को निर्देश जारी किया गया है. इसमें कहा गया है कि अभी बड़ी संख्या में दूसरे प्रदेशों मे रहने वाले बिहार के लोग घर वापस आ रहे हैं, इसलिए सभी साथियों की प्राथमिक जिम्मेदारी है कि अधिक से अधिक लोगों से मोबाइल पर संपर्क कर उन्हें आरजेडी की सदस्यता ग्रहण करने के लिए उत्साहित करें. सुशील मोदी ने यह भी बताया कि बिहार के अनुरोध पर बड़ी संख्या में श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलने लगीं. 1,000 और ट्रेनें चलायी जाने वाली हैं. उन्होंने कहा कि पैदल, साइकिल या ट्रक से सफर करने वाले मजदूरों से धैर्य रखने और ट्रेन से ही घर लौटने की अपील लगातार की जा रही है. तमाम इंतजाम और एहतियात के बीच पटरी या सड़क पर होने वाले हादसे अत्यंत दुखद हैं. यूपी की सड़क दुर्घटना में 24 मजदूरों की मृत्यु पर भी लालू प्रसाद का राजनीति करना मानवीय संवेदना की अन्त्येष्टि है. आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने जारी निर्देश में पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि लॉकडाउन की वजह से सदस्यता ग्रहण का काम रुक गया है. लेकिन अब बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों से आ रहे मजदूर पार्टी से जुड़ना चाहते हैं, लेकिन लॉकडाउन की वजह से सीधे सदस्य बनाना संभव नहीं है. ऐसे में सभी साथियों की प्राथमिक जिम्मेदारी है कि अधिक से अधिक लोगों से मोबाइल पर संपर्क कर उन्हें आरजेडी की सदस्यता ग्रहण करने के लिए उत्साहित करें.

ट्रेंडिंग