बॉलीवुड पर कोरोना कहर

लॉकडाउन से सभी उद्योग-धंधे ठप है वैसे ही बॉलीवुड पर भी इस महामारी का असर पड़ा है. और हालात ऐसे दिख रहे हैं कि इससे बाहर निकलने में कम से कम दो साल लगेंगे. ये निष्कर्ष बॉलीवुड के लगभग दर्जन भर सबसे बड़े निर्माताओं, डिस्ट्रीब्यूटरों और अभिनेताओं द्वारा किए गए एक आंतरिक आकलन में सामने आया है.

| गंभीर समाचार डेस्क

गंभीर समचार 16 May 2020

लॉकडाउन से सभी उद्योग-धंधे ठप है वैसे ही बॉलीवुड पर भी इस महामारी का असर पड़ा है. और हालात ऐसे दिख रहे हैं कि इससे बाहर निकलने में कम से कम दो साल लगेंगे. ये निष्कर्ष बॉलीवुड के लगभग दर्जन भर सबसे बड़े निर्माताओं, डिस्ट्रीब्यूटरों और अभिनेताओं द्वारा किए गए एक आंतरिक आकलन में सामने आया है. आकलन इसी सप्ताह इन लोगों की एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा आयोजित बैठक में निकल कर आया. कई एक्शन फिल्में बनाने वाले एक फिल्म निर्माता ने बताया, "फिल्में बनाना हमेशा से एक जुआ रहा है और अब तो हालात ऐसे हैं कि हम में से कुछ को अगले साल तक के लिए पैक-अप कर लेना चाहिए.."

तालाबंदी की वजह से निराशापूर्ण पूर्वानुमानों से बॉक्स ऑफिस की कमाई को एक बड़ा झटका लगा है. बॉक्स ऑफिस की कमाई पूरे उद्योग की कमाई के 60 प्रतिशत के बराबर होती है. ये सब देख कर निर्माताओं का कहना है कि उन्हें बड़े बजट वाली फिल्में और विदेशों में होने वाले खर्चीले शूट बंद करने पड़ेंगे.

लाकडाउन की वजह से बॉलीवुड ठप्प पड़ा है. लगभग 9,500 थिएटर बंद हैं और ऐसा लग रहा है कि एक स्क्रीन वाले सिनेमा घर हों या मल्टीप्लेक्स हर जगह व्यापार फिर से शुरू होने में कई हफ्ते या कई महीने भी लग सकते हैं.

आंकड़े बताते हैं कि भारत में अमूमन हर साल 1200 फिल्में बनती हैं. हो सकता है कि बड़े बजट वाली फिल्में अगले वित्त वर्ष तक स्थगित कर दी जाएं, क्योंकि इस समय प्रोडक्शन घरानों को पैसों की तंगी का सामना करना पड़ रहा है. उदाहरण के तौर पर फिल्म-निर्माता रोहित शेट्टी की "सूर्यवंशी" को मार्च के मध्य में रिलीज किया जाना था लेकिन अब इसे अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया है.

बॉलीवुड की फिल्मों को ट्रैक करने वाली कंपनी औरमैक्स के शैलेश कपूर कहते हैं, "ऐसा मुमकिन है कि सिनेमा घरों के दोबारा खुलने के बाद सिर्फ छोटी फिल्में रिलीज हों, ताकि निर्माताओं को एक अंदाजा मिल सके कि कितने लोग फिल्में देखने आ रहे हैं."

मोटी कमाई करने वाले अभिनेता और निर्देशक तो अपनी बचत के दम पर शायद ये समय निकाल ले, लेकिन सबसे बड़ा नुक्सान उन एक्स्ट्रा, बैकग्राउंड डांसर, स्टेज लगाने वाले और टेक्नीशियन लोगों का होगा जो दिहाड़ी पर या प्रोजेक्ट दर प्रोजेक्ट काम करते हैं. मुंबई जो हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का घर है इस समय भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण का भी केंद्र बना हुआ है और इसकी वजह से विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि बॉलीवुड के लिए कई सालों में अगले कुछ दिन सबसे बुरा हो सकते हैं.